बिहार में बड़ा राजनीतिक भूचाल, लोजपा में पड़ गयी दरार, जानिए क्या है समाचार

बिहार में बड़ा राजनीतिक भूचाल, लोजपा में पड़ गयी दरार, जानिए क्या है समाचार


– Advertisement –

बिहार में बड़ा राजनीतिक भूचाल, लोजपा में पड़ गयी दरार, जानिए क्या है समाचार

पटना (पीएमए)। बिहार की राजनीति में भूचाल आ गया है। राज्य में लोक जनशक्ति पार्टी यानी लोजपा में दरार पड़ गया है। परिवारवाद के माहिर खिलाड़ी व राजनैतिक मौसम वैज्ञानिक के रूप में मशहूर पूर्व केन्द्रीय खाद्य एवं आपूर्ति मंत्री रह चूके स्व.रामविलास पासवान के एकलौते पुत्र लोजपा सुप्रीमो व जमुई के सांसद चिराग पासवान से नाराज पार्टी के 6 में से 5 सांसदों ने लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला को चिट्ठी लिखी है। इस चिट्ठी में उन्होंने अपने गुट को अलग मान्यता देने की मांग की है। इन सांसदों ने चिराग पासवान के चाचा पशुपति कुमार पारस को ही अपना नेता चुन लिया है। कहा जा रहा है कि अलग गुट बनाकर ये सांसद जद(यू.) के पाले में जा सकते हैं। बगावत करने वाले सांसदों में चिराग पासवान के चाचा पशपति कुमार पारस के अलावा चचेरे भाई प्रिंस राज, चैधरी महबूब अली कैसर, चंदन सिंह व वीणा देवी शामिल हैं। इससे लोजपा को एक और बड़ा झटका लगा है।

बताया जा रहा है कि लोजपा में बगावत की ये पटकथा पिछले वर्ष संपन्न हुये 17वीं बिहार विधानसभा चुनाव के दौरान ही लिखी जानी थी। हाजीपुर के सांसद पशुपति कुमार पारस की अगुवाई में बगावत की खबर बाहर भी आ गई थी। लेकिन, हल्ला मचा तो उन्होंने अपने लेटर हेड पर इसका खंडन कर दिया था। लोजपा में उस वक्त जो फूट होने से बच गई थी वो अब सामने आ गई है। इन सांसदों को सही वक्त का इंतजार था और अब शायद उन्हें लगा कि सही वक्त आ गया है। मौका मिलते ही उन्होंने चिराग पासवान को बीच राजनीतिक मझधार में छोड़ दिया है।

भोजपुरी के सम्मान के लिये अश्लीलता रोकने का बने कानूनः प्रशांत

– Advertisement –

– Advertisement –

– Advertisement –

बता दें कि, एनडीए में रहते हुये भी लोजपा सुप्रीमो चिराग पासवान सुशासन बाबू के नाम से मशहूर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के खिलाफ बगावत पर उतर आये थे। अपने बलबुते पर 17वीं बिहार विधानसभा चुनाव में 143 सीटों पर चुनाव लड़ने वाली लोजपा महज एक सीट जीत पाई थी। लेकिन, महिटानी के लोजपा विधायक राम कुमार शर्मा को भी चिराग पासवान सहेज नहीं सके और वह नीतीश कुमार की दल जद(यू.) में शामिल हो चुके हैं। इसके पूर्व चुनाव नतीजों के बाद कई लोजपा जिलाध्यक्ष सहित दो सौ से अधिक नेता व प्रमुख कार्यकर्ता लोजपा से नाता तोड़ जद(यू.) का दामन थाम लिया है। वैसे, केंद्रीय मंत्रिमंडल विस्तार की भी चर्चा तेज है। ऐसे में पशुपति कुमार पारस केन्द्र की मोदी सरकार में मंत्री बन सकते हैं। वर्ष 2019 में जब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने दोबारा कमान संभाली तब एक फॉर्मूला बना कि सहयोगी दलों को मंत्रिपरिषद में एक-एक सीट दी जायेगी। तब 16 सांसदों वाली जद(यू.) मंत्रिपरिषद में शामिल नहीं हुई। उसकी कम से कम दो सीटों की मांग थी। वहीं, 6 सांसदों वाली लोजपा से रामविलास पासवान केन्द्रीय खाद्य एवं आपूर्ति मंत्री बने थे।

अवैध दवा व्यवसाय के खिलाफ संगठन चलायेगा अभियान

लेकिन, 17वीं बिहार विधानसभा चुनाव के ठीक पहले रामविलास पासवान का निधन हो गया। इसके बाद केंद्रीय मंत्रिमंडल में लोजपा का खाली हुआ कोटा भरा ही नहीं गया। एनडीए में रहते हुये 17वीं बिहार विधानसभा चुनाव में लोजपा 143 सीटों पर अकेले चुनाव लड़ी। इसमें जद(यू.) की 115 सीटों पर उसने प्रत्याशी उतारे थे। इस चुनाव में जद(यू.) ने 36 सीटों के नुकसान के लिये लोजपा को सीधे जिम्मेदार माना था। तभी से सवाल उठने लगे कि लोजपा, एनडीए फोल्ड में रहेगी या नहीं। जद(यू.) ने साफ कहा- यह गठबंधन के बड़े दल यानी भाजपा को तय करना है। अब जब केंद्रीय मंत्रिमंडल के विस्तार की बात चली तो मामला चिराग पासवान को लेकर फिर फंस गया। क्योंकि, लोजपा को कैबिनेट में जगह मिलती तो जद (यू.) रूठ जाती। वैसे, बिहार के राजनीतिक गलियारों में इसे चिराग पासवान के चाचा पशुपति कुमार पारस की राजनीतिक महत्वाकांक्षा से भी जोड़कर देखा जा रहा है। कुछ लोग केंद्रीय मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर भी अटकलें लगा रहे हैं।

वर्ष 2000 में नवंबर माह की 28 तारीख को स्व.रामविलास पासवान ने लोजपा का गठन किया था। 21 वर्ष में पहली बार लोजपा में टूट हुई है। अब संगठन में भी बड़ी तादाद में लोग लोजपा सांसद पशुपति कुमार पारस के साथ जा सकते हैं। इससे चिराग पासवान की ताकत और घट सकती है। अभी तक चिराग पासवान को रामविलास पासवान का पुत्र होने का फायदा मिलता रहा है। 17वीं बिहार विधान सभा चुनाव के दौरान चिराग पासवान ने खुद को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का हनुमान बताया था। लेकिन, अब उनकी पार्टी पर कब्जे को लेकर जोर-आजमाइश होनी तय है। बहरहाल, इन सांसदों के द्वारा सोमवार को पशुपति कुमार पारस के लोकसभा में दलीय नेता चुने जाने के बाद लोजपा की टूट से इंकार नहीं किया जा सकता है। अब देखना है कि आगे क्या नया राजनीतिक गुल खिलता है ? यह तो वक्त आने पर ही पता चल सकता है।

 


Admission Open: M.J. Wishing you all a very Happy Mahashivratri on behalf of INTERNATIONAL SCHOOL. Village Banideeh, Post Rampur, Mariahu Jaunpur Mo. 7233800900, 7234800900 | #TejasToday

सर्वाधिक पढ़ा जानें वाला जौनपुर का नं. 1 न्यूज पोर्टल वीडियो कान्फ्रेंसिंग से जेल बंदियों को दी गयी विधिक जानकारी | #TejasToday जौनपुर। उत्तर प्रदेश राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण लखनऊ के निर्देशानुसार एवं जनपद न्यायाधीश/अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकरण एमपी सिंह के संरक्षण व कुशल निर्देशन एवं अनुमति से जिला प्राधिकरण के तत्वावधान में बन्दियों को विधिक जानकारी प्रदान करने हेतु मंगलवार को वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से जिला कारागार का निरीक्षण एवं विधिक साक्षरता शिविर का आयोजन किया गया। इस मौम के पर सिविल जज सीडि/प्रभारी सचिव मो. फिरोज ने बन्दियों के अधिकार एवं विशेष रूप से महिला बन्दियों के लिए नालसा द्वारा चलायी जा रही योजना के बारे में बताया। साथ ही नालसा की योजना के अनुरूप जिला विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा गरीब, असहाय एवं निर्बल वर्ग के अक्षम व्यक्तियों को प्रदान करायी जा रही निःशुल्क विधिक सहायता के बारे में बताया। उन्होंने बन्दियों को बताया कि उपरोक्त प्रकार के बन्दी जेल अधीक्षक अथवा जेल लीगल एड क्लीनिक के माध्यम से जिला प्राधिकरण को प्रार्थना पत्र प्रस्तुत कर सकते हैं। जेल अधीक्षक को निर्देशित किया गया कि विधिक सहायता हेतु किसी बन्दी का प्रार्थना पत्र प्राप्त होने पर अविलम्ब सूचित करना सुनिश्चित करें। कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव हेतु कोविड-19 के नियमों के पालन हेतु जागरूक किया गया। इस अवसर पर जेल अधीक्षक, अन्य सहकर्मी, जेल पीएलवी एवं पुरूष व महिला बन्दीगण उपस्थित रहे।

कोरोना संक्रमण के चलते 19 सितम्बर तक न्यायिक कार्य ठप्प | #TEJASTODAY मछलीशहर, जौनपुर। स्थानीय तहसील के अधिवक्ताओं ने बैठक कर कोरोना संक्रमण को मद्देनजर 19 सितम्बर तक न्यायिक कार्य ठप्प रखने का निर्णय लिया है। अधिवक्ता संघ के अध्यक्ष प्रेम बिहारी यादव की अध्यक्षता में शुक्रवार को साधारण सभा की बैठक बुलाई गई। बैठक में सर्वसम्मति से निर्णय लिया गया कि कोरोना संक्रमण के बढ़ते प्रभाव को देखते हुये अधिवक्ता 19 सितम्बर तक न्यायिक कार्य से विरत रहेंगे। इस मौके पर अधिवक्ताओं ने कहा कि तहसील में वादकारियों व अधिवक्ताओं की बढ़ती भीड़ के कारण सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं हो पा रहा है जिसके कारण संक्रमण का बराबर खतरा बना हुआ है। ऐसी स्थिति में एहतियात के तौर पर यह निर्णय अति आवश्यक है। बैठक में महामंत्री अजय सिंह, वरिष्ठ अधिवक्ता दिनेश चंद्र सिन्हा, अशोक श्रीवास्तव, सुरेन्द्र मणि शुक्ला, जगदंबा प्रसाद मिश्र, नागेन्द्र प्रसाद श्रीवास्तव, विनय पाण्डेय, हरि नायक तिवारी, वीरेंद्र भाष्कर यादव, मनमोहन तिवारी आदि उपस्थित रहे।

– Advertisement –

अब आप भी tejastoday.com Apps इंस्टॉल कर अपने क्षेत्र की खबरों को tejastoday.com पर कर सकते है पोस्ट





Source link

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn