जौनपुर। नगर के बलुआ घाट पर स्थित मेंहदी वाली जमीन में राष्ट्रीय फुटबाल खिलाड़ी सैय्यद इकबाल कमर की चेहल्लुम की मजलिस में अजादारों ने कर्बला के शहीदों को याद कर नजराने अकीदत पेश किया।
 सोजखानी रजा जलालपुरी, रजा लखनवी, शोहरत जौनपुरी, शम्सी आजाद, सैय्यद कयाम रजा रिजवी किया। पेशख्वानी के बाद बतौर मुख्य वक्ता मौलाना गुलाम अली खान व मौलाना सैय्यद नुरुल हसन ने मजलिस को खिताब किया।
 रूड़की उत्तराखण्ड से आये मौलाना गुलाम अली खान ने कुरआन पाक की आयतों के हवाले से कहा कि इस्लाम सिर्फ मोहब्बत और प्यार सिखाता है, न कि किसी बेगुनाह को कत्ल करने को कहता है। मौलाना सैय्यद नुरूल हसन मछलीगांव-अम्बेडकरनगर ने कहा कि कर्बला के मैदान ने दोस्ती, भाईचारा व आपसी विश्वास की नई इबारत लिखी।
 मौलाना ने इमाम हुसैन की मुश्किलों और जालिमों द्वारा किये गये उन पर अत्याचारों का जिक्र किया तो लोगों की आंखों से आंसूओं का सैलाब उमड़ पड़ा। मजलिस के बाद विश्व प्रसिद्ध अंजुमन हुसैनिया उसमापुर जलालपुर के नौहेख्वान नन्हे ने नौहाखानी करके माहौल गमगीन कर दिया।
 इस अवसर पर डा. कमर अब्बास, इन्द्रभान सिंह, मो. आजम खान, मौलाना शौकत बड़ागांव, पूर्व एमएलसी सिराज मेंहदी, भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष हैदर अब्बास चांद, जिलाध्यक्ष मोहम्मद साकिब, भाजपा नेता सतीश सिंह, आसिम अली, तनवीर हसन, बसपा नेता सलीम खान, मऊ विधायक मुख्तार अंसारी के प्रतिनिधि शाहिद जाफरी, सभासद सदफ, वरिष्ठ पत्रकार आरिफ हुसैनी, मुतवल्ली अली मंजर डेजी, सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ अधिवक्ता अकबर आब्दी, कांग्रेस जिलाध्यक्ष फैसल हसन तबरेज, महासचिव आजम जैदी, नायब हसन, रिजवान हैदर, हसन जाहिद खान, हुसैनी फोरम के संरक्षक इकबाल खान, युवा नेता विराज ठाकुर, सुधांशु सिंह, शहंशाह आब्दी, पिंकू प्रधान, असलम शेर खान, नैय्यर जमाल खान, डा. सामीन रिजवी, वरिष्ठ अधिवक्ता इसरार एडवोकेट, रियाजुल हक प्रधान, अजादार हुसैन, शाहिद मेंहदी सहित तमाम लोग उपस्थित रहे।
 अन्त में सैय्यद अंजार कमर, हसनैन कमर दीपू, मंजर अब्बास, शाहवेज हैदर, अफरोज कमर, हेलाल कमर फरमान ने समस्त आगंतुकों के प्रति आभार व्यक्त किया।