बदलापुर, जौनपुर। तहसील क्षेत्र के कम्मरपुर गांव निवासी बिनोद गुप्ता सहित सैकड़ो राशन कार्ड धारकों नें जिलाधिकारी और उपजिलाधिकरी को शिकायती पत्र देकर गांव के कोटेदार की दबंगई और अनियमितता की जांच की मांग पर शनिवार को जांच टीम कम्मरपुर गांव में धमक पड़ी। 
जिसे देख सैकड़ो ग्रामीणों की भीड़ इकट्ठा हो गई जांच अधिकारी एनके यादव ने मौजूद ग्रामीणों से बारी बारी ब्यान लिया। जिसमें रासन कार्ड धारक निर्मला गुप्ता पत्नी बिनोद गुप्ता ने बताया कि मई और दिसम्बर में रासन नही मिला, प्रमीला तिवारी पत्नी दयाशंकर ने दाम से अधिक रूपये लेने का आरोप लगाया, सुनीता सिंह पत्नी अशोक सिंह ने बताया जनवरी माह में 15 किलो रासन 70 रूपये में मिला और मिट्टी तेल नही मिला, सुषमा पत्नी दीनानाथ तिवारी का आरोप है कि दो युनिट का रासन 40 रूपये में दिया जाता है।
सरोजा पत्नी रामबचन का आरोप है कि तीन युनिट का रासन एक वर्ष से नही मिलता है। गीता पत्नी महेन्दर ने कहा 90 रूपये में पांच युनिट का रासन मिलता है दो किलो रासन कम देती हैं। सुशीला पत्नी गंगासागर ने कहा किसी माह में मिलता है किसी माह में नही मिलता तीन माह से नहीं मिला है। फूला देवी पुन्नालाल 27 किलो रासन 90 रूपये में दिया जाता है मिट्टी तेल नही दिया जाता है।
इसी तरह सैकड़ो कार्ड धारकों द्वारा कोटेदार पर आरोप प्रत्यारोप लगाया गया। अधिकांश ग्रामीणों का यह भी आरोप है कि कोटेदार के खिलाफ कोई आवाज उठाता है तो कोटेदार द्वारा उसे एससी-एसटी छेड़खानी आदि फर्जी मुकदमे में फसाने की धमकी दी जाती हैं। इसी दौरान जांच में पहुंचे उपजिलाधिकरी ने भी ग्रामीणों की समस्या को गंभीरता से लेते हुए हर बिन्दुओं पर जांच पड़ताल किये।
इस सम्बन्ध में पूछे जाने पर उपजिलाधिकरी अंजनी कुमार सिंह ने कहा कि दो-दो बार कोटेेेदार को नोटिस भेजा गया लेेकिन एक भी जबाब नहीं मिल सका जहां, ग्रामीणों से पूछताछ कर जिसकी रिपोर्ट उच्चाधिकारियों को सौप दिया गया है।