जौनपुर। जिले के महारगंज स्थानीय क्षेत्र के सोनहिता इटहां गांव में चल रहे श्रीमद्भागवत कथा के पहले दिन सैकड़ों महिलाएं कलश लेकर निकलीं। वे पूरे गांव में भ्रमण करते हुये गाजे-बाजे के साथ नाचते हुये कथा स्थल पर पहुंचीं। कथा व्यास संजीव कृष्ण शास्त्री जी महाराज ने भक्त की भगवान के प्रति प्रेम की महिमा का बखान किया। साथ ही कहा कि भक्त और भगवान के बीच अटूट प्रेम होता है। इस प्यार में कोई लालच नहीं होता। भागवत कथा के श्रवण मात्र से ही मोक्ष की प्राप्ति होती है।जिस तरह मीरा ने भगवान कृष्ण के लिये विष को पी लिया था और गोपियां भगवान के प्रेम में मगन रहती थीं, उसी तरह वर्तमान में अगर कोई इंसान ईश्वर से प्रेम कर ले तो उसे संसार में दर-दर की ठोकर खाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। प्रभु की नाम ही भव सागर से मानव को पार लगा सकता है।इस मौके पर मुम्बई से पधारे नवसेना अधिकारी पीबी पाणिग्रही सचिव सहकारी बैंक एवं अध्यक्ष नवल डाक मुम्बई की प्रमुख उपस्थिति रही जहां सतीश पाठक ने कथा व्यास संजीव कृष्ण शास्त्री जी महाराज सहित तमाम गणमान्यों का स्वागत किया।इस अवसर पर कथा आयोजक सुदामा पाठक, कृष्ण चन्द्र, लालजी, सत्यदेव, मनीष, रामकृपाल, हरिशंकर, प्रण लाल सहित सैकड़ों लोग उपस्थित रहे।