जौनपुर। पूर्व मंत्री संगीता यादव द्वारा दहेज रूपी कोढ़ से मुक्ति के लिये दहेज बन्दी हेतु शुरू की गयी मुहिम की महिला समाज में काफी सराहना हो रही है। समाज में फैली इस सामाजिक कुरीतियों को समाप्त करने हेतु चलायी गयी अभियान के समर्थन में महिलाएं व बेटियां भी खुलकर बोलने लगी हैं। उन्हें उम्मीद है कि दहेज के खिलाफ अभियान सफल होगा।

अभियान के तहत सोमवार को माता प्रसाद आदर्श शिक्षण संस्थान भभौरी में लघु नाटिका द्वारा बताया गया कि दहेज से समाज में कैसे बहु-बेटियों का जलाया जा रहा है। दहेज चलते भू्रण हत्याएं हो रही हैं। नाटक में बाल विवाह पर करारा प्रहार किया गया। साथ ही छात्र-छात्राओं सहित ग्रामीणों को संदेश दिया गया कि बाल विवाह, दहेज प्रथा जैसी कुरीतियों समाप्त करना चाहिये।

इसी क्रम में पूर्व मंत्री संगीता यादव ने कहा कि आज जातीय व्यवस्था में दहेज प्रथा को तोड़ना उतना ही मुश्किल है जितना उसे ढोना। यह नाटक ग्रामीण समाज के वर्तमान, भूत एवं भविष्य का वह आईना है जो प्रासंगिकता को प्रस्तुत करता है। दहेज के चलते महिलाओं को जलाया जा रहा है तथा उनको बलि के बेदी पर चढ़ाया जा रहा है। अब इस दानव को समाप्त करने के लिये लोगों को आगे आना होगा।

इसी क्रम में प्राचार्य डा. सीमा सिंह ने केे कहा कि लोग ठान लें कि जो दहेज मांगेगा, उससे शादी नहीं करूंगी। इस अवसर पर संदीप यादव, मदन सिंह, राजेश मौर्य, विनीत सिंह, आकाश मिश्र, बंटी सहित तमाम लोग उपस्थित रहे।