जौनपुर। समाजवादी पार्टी के नेता और पूर्व मंत्री व शाहगंज विधायक शैलेंद्र यादव ललई ने उत्तर प्रदेश सरकार पर निशाना साधा है। जिला समाजवादी पार्टी कार्यालय पर स्नातक व शिक्षक विधान परिषद चुनाव के संदर्भ में समाजवादी पार्टी के संचालन समिति की बैठक में उन्होंने कहा कि बीजेपी सरकार ने किसानों के विश्वास को बुरी तरह आहत किया है।

यह चुनाव पढ़े-लिखे व शिक्षकों का है। आज जिस तरह भाजपा की सरकार में पढ़े-लिखे बेरोजगार नौजवानों की संख्या बढ़ रही है। वहीं अब पढ़ा-लिखा समाज बस एक उम्मीद के रूप में अखिलेश यादव को देख रहा है। वहीं प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जो बेरोजगार नौकरी मांगे तो उन पर लाठियां बरसवा रहे हैं। इतनी यातनाएं दे रहे हैं कि कोई बेरोजगार अपनी आवाज भी अब उठाने से डरता है। हमें पूरा उम्मीद है कि हम दोनों चुनाव जीत करके राष्ट्रीय अध्यक्ष को मजबूत करने का काम करेंगे।

ललई यादव ने कहा कि बेमौसम बारिश और ओलावृष्टि से प्रदेश भर में 80 से 90 फीसदी तक फसल नष्ट हो गई, लेकिन शासन के निर्देश अधिकारियों ने 15-20 फीसदी का नुकसान दिखाया। शनिवार को जौनपुर आए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राहत के नाम पर जो राशि किसानों को दी है, वह राहत नहीं बल्कि किसानों के मुँह पर तमाचा है, किसानों का अपमान है। मेहनतकश किसान समाज का सम्मान नहीं बल्कि अपमान करने जैसा है।

यह खेती, किसानी व किसान की दिन-प्रतिदिन गंभीर होती जा रही इस समस्या से निपटने के मामले में बीजेपी सरकार की छोटी व अपरिपक्व सोच का जीता-जागता प्रमाण है और इससे किसान समाज को सतर्क रहने की ज़रूरत है। किसान देश में सबसे बड़ा मेहनतकश समाज है।

इनको थोड़ी सी सरकारी मदद देने की बीजेपी सरकार की सोच अनुचित ही नहीं बल्कि अहंकारी है। रविवार को जौनपुर के कई प्रभावित किसानों से मिला जिनको असमय बारिश और ओलावृष्टि के कारण भारी नुकसान उठाना पड़ा है। किसानों के दर्द को शब्दों में नही व्यक्त किया जा सकता। भाजपा सरकार से माँग है कि उनके भारी नुकसान कि सम्पूर्ण मुआवजा दें।