जौनपुर– रामपुर थाना क्षेत्र के आशानंदपुर नई बस्ती में शुक्रवार की दोपहर मस्जिद में एक साथ अलविदा की नमाज अता करने के लिए मना करने पर एक पक्ष ने लाठी, डंडा, सरिया और ईट पत्थर लेकर दूसरे पक्ष पर हमला बोल दिया जिससे आधा दर्जन लोग घायल गए। जिसमें 3 लोगों की हालत आज भी गंभीर बनी हुई है। डॉक्टरों ने उन्हें जिला अस्पताल रेफर कर दिया है। गांव में पुलिस तैनात कर दिया गया है। लेकिन दोनों पक्षों में तनावपूर्ण शांति बनी हुई है।

थाना क्षेत्र के आशानंदपुर गांव में ईद के अलविदा नमाज़ को मस्जिद में एक साथ पढ़ने के लिए गांव के इश्तियाक अली के परिवार द्वारा मना करने के बावजूद गांव के कुछ दबंग मुस्लिम परिवारों ने मस्जिद में एक साथ नमाज अदा करने की बाद करीब 1:30 बजे जब वह मस्जिद से निकले तो इस्तियाक अली के परिवार से कहासुनी करने लगे।

बात कुछ आगे बढ़ी तो आरोप है कि नमाजी मुमताज, करिया सोनू, शकीर ने अपने-अपने घर जाकर लाठी डंडा सरिया लेकर इश्तियाक के घर पर चढ़ आएं उसके बाद दोनों तरफ से ईट पत्थर एवं लाठी डंडा सरिया चलने लगा। देखते देखते बस्ती ईट पत्थरों से पूरी तरह पट गई और आधा दर्जन लोग लहूलुहान होकर घायल हो गए। उसकेबाद भी दबंगों का जी नहीं भरा तो वहां खड़ी स्कॉर्पियो गाड़ी को भी तोड़फोड़ कर चकनाचूर कर दिया। सूचना पर पहुंची रामपुर पुलिस ने सभी घायलों को रामपुर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर लाकर मेडिकल मुआयना कराया। जहां से इस्तियाक अली, मुनव्वर, शहाबुद्दीन की गंभीर हालत देखते हुए जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया। मामले को लेकर पुलिस ने पीड़ित के दिए गए तहरीर को बदलते हुए मुमताज, करिया, सोनू, शकीर के खिलाफ 323, 504, 427 एनसीआर दर्ज कर लिया। मामले में किसी आरोपी की अभी तक गिरफ्तारी नहीं हुई है इस संबंध में थानाध्यक्ष बालेंद्र यादव को जब फोन किया गया तो 2 बार उन्होंने फोन को काट दिया जिससे उनसे कारवाई की जानकारी नहीं हो सकी। गांव में अलविदा की नमाज को लेकर तनावपूर्ण शांति बनी हुई है।