गांव में तनाव का मौहोल ब्याप्त

जौनपुर। ख़बर जनपद  के नेवढ़िया थाना क्षेत्र के जवंसीपुर गांव से थी जहा बीते मंगलवार को बच्चों के खेलने को लेकर विवाद में उसी रात मुस्लिम वर्ग के लोगों द्वारा किये गए हमले के दौरान घायल पुजारी बद्री पटेल 50 वर्ष की इलाज के दौरान बीएचयू ट्रामा सेंटर वाराणसी में शुक्रवार की देर रात्रि मौत हो गयी। वहीं फिर से गाँव मे तनाव का माहौल व्याप्त है।
जवंसीपुर गाव में तनाव को देखते हुए शांति व्यवस्था को कायम रखने के लिए सर्किल के सभी थानों की पुलिस फोर्स तैनात कर दी गई है। ग़ौरतलब हो की उक्त गांव के बच्चे खेल रहे थे। खेल के दौरान ही दो वर्गों के बच्चों में विवाद हो गया। गांव के संभ्रांत लोगों के समझाने पर बच्चे घर चले गए। उसी रात एक वर्ग से करीब 50 की संख्या में लोगों ने पटेल बस्ती में पहुंचकर पुजारी के घर में घुसकर जमकर मारपीट करने लगे।मारपीट के दौरान महेश पटेल 30 वर्ष, बद्री पटेल 50 वर्ष, मुन्ना पटेल 20 वर्ष को गंभीर चोटें आईं थी। वहीं परिजनों की चीख-पुकार सुनकर अन्य लोग भी दौड़े तो हमलावर भाग गए। घटना की सूचना पर पहुंचे चौकी इंचार्ज महेश सिंह ने घायलों को सामुदायिक स्वास्थ केंद्र रामनगर भेजा। जहां बद्री पटेल की गंभीर हालत देखते हुए डाक्टर ने जिला अस्पताल रेफर कर दिया था। जिला अस्पताल से हालत में सुधार ना होने के कारण बेहतर उपचार के लिए बीएचयू ट्रामा सेंटर भेज दिया गया जहाँ शुक्रवार की देर रात उपचार के दौरान अधेड़ पुजारी की मौत हो गई। वहीं गाँव में तनाव को देखते हुए एएसपी ग्रामीण संजय राय, एडीएम रामप्रकाश, क्षेत्राधिकारी मड़ियाहूं विजय सिंह, क्षेत्राधिकारी मछलीशहर अवधेश शुक्ला, उपजिलाधिकारी मडियाहू कौशलेंद्र मिश्रा, तहसीलदार सुदर्शन राम सहित सर्किल के सभी थानों की फोर्स व दो प्लाटून पीएससी फोर्स मौके पर पहुंच गए।ग्राम प्रधान मुन्ना सिंह सहित अन्य लोगों के समझाने व उच्चाधिकारियों द्वारा 5 लाख रुपये किसान दुर्घटना बीमा योजना के तहत देने व परिजनों के नाम जमीन पट्टा करने के आश्वासन पर परिजन वाराणसी जाकर अंतिम संस्कार करने के लिए तैयार हो गए। परिजनों को उच्चाधिकारियों ने निजी वाहन से वाराणसी के लिए भेज दिया। मड़ियाहूं विधायक डा. लीना तिवारी द्वारा मृतक के परिजनों को 10000 रुपये का सहयोग राशि दिया गया।