खुटहन, जौनपुर। स्थानीय थाना क्षेत्र के नूरुद्दीनपुर गांव में गुमशुदा बालक का शव मंगलवार को छठवें दिन उसी के घर में खपरैल के खंडहर में मिलने से स्वजनों में कोहराम मच गया। शव पर जख्मों के निशान उसकी पीट—पीटकर हत्या किए जाने की चीख—चीख कर गवाही दे रहे है। स्वजनों की चीख पुकार सुन वहां तमाम ग्रामीण जुट गये।
इस मौके पर पहुँची पुलिस घटना की छानबीन में जुट गयी। स्वजनों के द्वारा किसी को आरोपित न किए जाने से पुलिस भी किसी ठोस नतीजे पर नहीं पहुंच पा रही है। मौके पर डाग स्क्वायड बुलाया गया है। डॉग वहीं घर के इर्द—गिर्द ही घूमकर रह गया।
प्राप्त जानकारी के अनुसार गांव निवासी सूबेदार यादव का 14 वर्षीय पुत्र प्रियांशू उर्फ लाला बीते 12 फरवरी की दोपहर अचानक घर से गायब हो गया था। परिवार के लोग पहले सोचे कि वह गांव के बच्चों के साथ कहीं खेलने गया होगा। शाम तक वापस नहीं लौटा तो उसकी खोजबीन शुरू की गयी लेकिन उसका कुछ पता नहीं चला। थक हार कर स्वजन बीते गत 15 फरवरी को थाने में गुमशूदगी की तहरीर दी। 
पुलिस भी उसे दर्ज कर हाथ पर हाथ धरे बैठी रही। मंगलवार के तीसरे पहर उसकी माता रंगीला देवी घर से सटे हुए खंडहर में रखा ईंधन निकालने गयी तो वहाँ लकड़ी और ऊपलों के नीचे एक शव पड़ा देख चीख पड़ी। मौके पर तमाम ग्रामीण जुट गये। जब लकड़ी हटाकर शव बाहर निकाला गया तो वह प्रियांशू का निकला।
जिसको पहचानते ही स्वजनों में हाहाकार मच गया। शव पर जख्मों के निशान उसकी निर्दयतापूर्वक हत्या किए जाने की खुद गवाही दे रहे है। मृत बालक के पिता सूबेदार यादव के द्वारा हत्या को लेकर कोई रंजिश या किसी पर आरोट प्रत्यारोप न लगाये जाने से मामला काफी पेचीदा बन गया है। इस संबंध में थानाध्यक्ष ने बताया कि तहरीर मिलने के बाद ही कोई कार्रवाई होगी।